Statements

हिन्दोस्तान के किसानों - अपने जायज संघर्ष में आगे बढ़ो! मज़दूर वर्ग आपके साथ है!

Submitted by cgpiadmin on बुध, 02/08/2017 - 01:30
हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी का आह्वान, 12 जुलाई, 2017 किसान भाइयों, आप हिन्दोस्तान के कोने-कोने से दिल्ली आये हैं, पूरे देश को यह घोषणा करने के लिये कि आप अन्याय के खिलाफ़ और अपने अधिकारों के लिये लड़ेंगे। हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी दृढ़ता से आपके संघर्ष का समर्थन करती है।
Tag:   

राष्ट्रीय आपातकाल की 42वीं वर्षगांठ :

Submitted by cgpiadmin on शनि, 17/06/2017 - 03:30

लोकतंत्र के दिखावे के पीछे सबसे बड़े इज़ारेदार पूंजीपतियों की बर्बर तानाशाही है!

Tag:   

ऑपरेशन ब्लू स्टार की 33वीं बरसी पर : धार्मिक स्थान पर राज्य के हमले का कोई औचित्य नहीं हो सकता!

Submitted by cgpiadmin on गुरु, 01/06/2017 - 12:48

एक पर हमला, सब पर हमला!

हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी के केंद्रीय समिति का बयान, 22 मई, 2017

6 जून, 1984 को हिन्दोस्तान की सेना ने भारी टैंकों और तोपों की गोलाबारी के साथ अमृतसर में स्वर्ण मंदिर पर हमला किया। सिख धर्म के इस सबसे पवित्र मंदिर पर हथियारबंद हमले को ऑपरेशन ब्लू स्टार नाम दिया गया। यह हमला ठीक उस दिन किया गया जिस दिन सिखों के पांचवें गुरु, गुरु अर्जन देव का शहादत दिन था। गुरु अरजन देव ने सिख समुदाय के लोगों के सम्मान की रक्षा में सदियों पहले अपनी जान कुर्बान की थी। सेना ने स्वर्ण मंदि

Tag:   

हिन्दोस्तानी सैनिकों के सिर काटने की घिनौनी हरकत की निंदा करें!

Submitted by cgpiadmin on गुरु, 25/05/2017 - 14:44
हिन्दोस्तान और पाकिस्तान के बीच तनाव बढ़ाने की अमरीकी साम्राज्यवाद की साजिशों के बारे में चौकन्ने रहें! हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी की केन्द्रीय समिति का बयान, 9 मई, 2017
Tag:   

मज़दूर वर्ग के एकजुट विरोध को मजबूत करें!

Submitted by cgpiadmin on सोम, 01/05/2017 - 09:28

हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी की केन्द्रीय समिति का आह्वान, 29 अप्रैल, 2017

मज़दूर साथियों,

अपनी रोज़ी-रोटी और अधिकारों पर पूंजीपति वर्ग के हमलों का बहादुरी से मुक़ाबला करने वाले, हिन्दोस्तान और सभी देशों के मज़दूरों का हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी, मई दिवस 2017 के अवसर पर क्रांतिकारी अभिवादन करती है।

Tag:   

एक पर हमला, सब पर हमला! पूंजीवादी हमलों के खिलाफ़ मज़दूर वर्ग के विरोध संघर्ष का निर्माण करो और मजबूत करो!

Submitted by cgpiadmin on सोम, 03/04/2017 - 10:47
कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी की केन्द्रीय समिति का आह्वान, 2 अप्रैल, 2017 मजदूर साथियों, इस वर्ष मई दिवस ऐसे समय में आ रहा है जब मारुती-सुज़ुकी कंपनी के 13 मज़दूरों को आजीवन कारावास की भयंकर और नाजायज़ सज़ा सुनाई गयी है जिसके विरोध में जन-विरोध बढ़ता जा रहा है। उनका अपराध केवल इनता है कि वे अपने अधिकारों की हिफाज़त में खड़े हुए और उन्होंने एक लड़ाकू यूनियन बनाने की जुर्रत की।
Tag:   

मथुरा में राजकीय आतंक की कड़ी निंदा करें!

Submitted by cgpiadmin on शुक्र, 17/06/2016 - 00:30

abcd-dummy content abcd-dummy content abcd-dummy content abcd-dummy content abcd-dummy content abcd-dummy content abcd-dummy content abcd-dummy content abcd-dummy content abcd-dummy content abcd-dummy content abcd-dummy content abcd-dummy content abcd-dummy content abcd-dummy content abcd-dummy content abcd-dummy content abcd-dummy content abcd-dummy content abcd-dummy content abcd-dummy content abcd-dummy content abcd-dummy content abcd-dummy content

Tag:   

लोक राज संगठन के सर्व हिन्द उपाध्यक्ष हनुमान प्रसाद शर्मा से साक्षात्कार

Submitted by cgpiadmin on गुरु, 16/06/2016 - 22:30

मजदूर एकता लहर ने राजस्थान में चल रहे किसानों के संघर्षों के संदर्भ में लोक राज संगठन के सर्व हिन्द उपाध्यक्ष हनुमान प्रसाद शर्मा से साक्षात्कार किया, जिसके कुछ अंश हम यहां पर पेश कर रहे हैं।

मजदूर एकता लहर (म.ए.ल.): वर्तमान संघर्ष की पृष्ठभूमि क्या है?

Tag:   

बाबरी मस्जिद के विध्वंस की 25वीं बरसी के अवसर पर :

Submitted by cgpiadmin on शनि, 02/12/2017 - 04:33
इस साल 6 दिसम्बर को अयोध्या में स्थित 16वीं सदी की मस्जिद के विध्वंस की 25वीं बरसी है, जिसे बाबरी मस्जिद के नाम से जाना जाता है। बाबरी मस्जिद का विध्वंस सोचा-समझा और पहले से सुनियोजित काम था। देशभर से लाखों कर-सेवकों को अयोध्या में इकट्ठा किया गया था। सुरक्षा बलों को आदेश दिया गया था कि वे उस स्थान से दूर रहें। कई प्रमुख सांसदों ने वहां जाकर पूरी प्रक्रिया का पर्यवेक्षण किया और बाबरी मस्जिद को बीते दिनों में मुसलमान शासकों के हाथों हिन्दुओं की गुलामी की निशानी बताया था।
Tag:   

देशभर के किसान अपनी मांगों के संघर्ष में एकजुट हुए

Submitted by cgpiadmin on शनि, 02/12/2017 - 03:30

Kisan rallyदेशभर के किसानों का आक्रोश और गुस्सा जो कि पिछले कई महीनों से अलग-अलग संघर्षों के रूप में फूट रहा था, 20-21 नवंबर, 2017 को एक विशाल एकजुट संघर्ष के रूप में दिल्ली की सड़कों पर उतर आया।

20-21 नवंबर को देशभर के 184 किसान संगठनों ने एक साथ मिलकर दिल्ली में अखिल भारतीय किसान संसद का आयोजन किया। इस किसान संसद में कम्युनिस्ट पार्टियों और अन्य पार्टियों की अगुवाई में गठित किसान संगठनों ने भी हिस्सा लिया। पंजाब, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, उत्तर प्रदेश, बिहार, पश्चिम बंगाल, असम, ओड़िशा, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, गुजरात, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, कर्नाटक, तमिलनाडु और केरल से आये किसान संगठनों ने इसमें हिस्सा लिया। इस संसद में किसानों, कृषि मज़दूरों, मछुआरों, बागान मज़दूरों, इत्यादि मेहनतकश लोगों के प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया। बड़े फक्र के साथ अपने हाथों में अपने संगठन के बैनर और झंडे उठाये, अपने इलाके के पारंपरिक परिधानों में सजे हजारों किसान और मेहनतकश लोग रामलीला मैदान और अंबेडकर स्टेडियम से दो कतारों में पूरे अनुशासन के साथ वे जंतर-मंतर पहुंचे। वे अपने-अपने इलाकों की भाषाओं में अपनी मांगों को बुलंद कर रहे थे।

Tag:   

कर्ज़ माफ़ी और सार्वजनिक खरीदी की मांग पूरी तरह से जायज़ है! किसानों की सुरक्षा और खुशहाली सुनिश्चित करना राज्य की जिम्मेदारी है! यह कोई एहसान नहीं, जो करे हम पर कोई सरकार! सुरक्षित आजीविका है, हमारा बुनियादी अधिकार!

Submitted by cgpiadmin on शनि, 02/12/2017 - 02:30

हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी का आह्वान, 20 नवंबर 2017

अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति के बुलावे पर आज देशभर के किसान दिल्ली में इकट्ठा हुए हैं। उनकी मांगों में शामिल हैं - बैंकों द्वारा दिए गए कर्ज़ों की एक बार में पूरी माफ़ी और सार्वजनिक खरीदी व्यवस्था के माध्यम से सभी फसलों की लाभकारी मूल्यों पर खरीदी की गारंटी। उनकी ये मांगें पूरी तरह से जायज़ हैं। सभी किसानों के लिए सुरक्षित आजीविका सुनिश्चित करने और देश को कृषी संकट से उबारने के लिए इन मांगों को पूरा करना बेहद ज़रूरी है।

Tag:   

नए हिन्दोस्तान के निर्माण के लिए ज़रूरी है कि हम इस पुराने शोषक और दमनकारी राज्य का ख़ात्मा करें!

Submitted by cgpiadmin on शनि, 02/09/2017 - 17:57

हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी की केंद्रीय समिति का बयान, 23 अगस्त, 2017

बस्तीवादी राज से हिन्दोस्तान की आज़ादी की 70वीं सालगिरह के अवसर पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने लोगों को बुलावा दिया कि अगले पांच साल में एक “नए हिन्दोस्तान” का निर्माण करने में लोग उनका समर्थन करें, एक ऐसा हिन्दोस्तान जहां न गरीबी होगी, न भ्रष्टाचार होगा, न साम्प्रदायिक हिंसा होगी और न ही जाति के आधार पर भेदभाव होगा।

Tag:   

कोरियाई लोगों के खिलाफ़ अमरीका द्वारा जंग-भड़काऊ प्रचार और धमकी की निंदा करें!

Submitted by cgpiadmin on शनि, 02/09/2017 - 17:51

Thumbnail

हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी की केन्द्रीय समिति का बयान, 18 अगस्त, 2017

अमरीकी साम्राज्यवादी, परमाणु हथियारों और पारम्परिक हथियारों से कोरियाई लोगों और डेमोक्रेटिक पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ कोरिया (उत्तरी कोरिया) का विनाश करने की हर रोज धमकी दिए जा रहे हैं। अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने कोरियाई लोगों को धमकी दी है कि “वे विपत्ति और प्रकोप का ऐसा नज़ारा देखेंगे, जैसा कि दुनिया ने आज तक कभी नहीं देखा है”। उसने ऐलान किया है कि अमरीकी सेना किसी भी वक्त, इस धमकी को अंजाम देने के लिए तैयार है।

Tag:   

हिन्दोस्तान की आज़ादी के 70 वर्ष :

Submitted by cgpiadmin on बुध, 02/08/2017 - 03:30

हिन्दोस्तान के लोग तभी आज़ाद होंगे जब हम 1947 में स्थापित किये गये बड़े पूंजीपतियों के राज की जगह पर अपना राज स्थापित करेंगे

हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी की केन्द्रीय समिति का बयान, 29 जुलाई, 2017

15 अगस्त, 1947 को बर्तानवी उपनिवेशवादी राज से हिन्दोस्तानी आज़ादी की औपचारिक घोषणा की गई थी। बर्तानवी हिन्दोस्तान को धर्म के आधार पर दो भागों में बांट दिया गया और हिन्दोस्तान व पाकिस्तान के दो आज़ाद राज्य बनाये गये। पूर्वी पाकिस्तान, जो भूगोलिक तौर पर बाकी पाकिस्तान से अलग था, 1971 में अगल हो गया और बांग्लादेश का आज़ाद राज्य बन गया।

आज, 70 वर्ष बाद, हिन्दोस्तान, पाकिस्तान और बांग्लादेश के अधिकतम लोग जीवन के लगभग सभी पहलुओं में आज़ादी से वंचित हैं।
Tag:   

अमरीका ने अफगानिस्तान पर महाबम गिराया :

Submitted by cgpiadmin on बुध, 19/04/2017 - 17:42

अमरीका और सभी विदेशी ताक़तें अफगानिस्तान से बाहर निकलो!

अफगानिस्तान को बड़े युद्ध के लिये परीक्षण भूमि की तरह इस्तेमाल करना बंद करो!

हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी की केन्द्रीय समिति का बयान, 16 अप्रैल, 2017

Tag:   

बड़े सरमायदारों के अजेंडे को आगे बढ़ाने के लिए “जनादेश” पाने में चुनावों का इस्तेमाल

Submitted by cgpiadmin on गुरु, 16/03/2017 - 20:15

हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी की केन्द्रीय समिति का बयान, 13 मार्च, 2017

पांच राज्यों - उत्तर प्रदेश, पंजाब, मणिपुर, उत्तराखंड और गोवा में विधानसभा चुनावों के नतीजे घोषित किये जा चुके हैं। उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में भाजपा को बड़े पैमाने पर सीटें मिली हैं और मणिपुर व गोवा में वह बहुमत के लिए जुगाड़ करने में लगी हुई है। पंजाब में कांग्रेस को बहुमत मिला है। मोटे तौर पर इस चुनाव से भाजपा की स्थिति मजबूत हुई है। इससे राज्य सभा में उसकी सीटों का आंकड़ा बढ़ाने में मदद मिलेगी और देशभर में ज्यादा राज्य सरकारें भी उसकी अगुवाई में होंगी।

Tag:   

हिन्दोस्तानी गणतंत्र के 67 वर्ष के अवसर पर

Submitted by cgpiadmin on शुक्र, 17/02/2017 - 01:38

नयी नींवों पर गणतंत्र का नव-निर्माण करना होगा

हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी की केन्द्रीय समिति का बयान, 24 जनवरी, 2017

हिन्दोस्तानी गणतंत्र जो कुछ भी होने का दावा करता है, वास्तव में वह हर मामले में उसका ठीक उल्टा है।

Tag:   

हिन्दोस्तानी राज्य ही सांप्रदायिक है, न कि सिर्फ़ कुछ राजनेता

Submitted by cgpiadmin on गुरु, 16/02/2017 - 21:23

हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी की केंद्रीय समिति का बयान, 8 जनवरी, 2017

2 जनवरी को हिन्दोस्तान के सर्वोच्च न्यायालय ने एक फैसला सुनाया कि, कोई भी राजनेता जाति, संप्रदाय या धर्म के नाम पर वोट नहीं मांग सकता है” तथा ऐसी कार्यवाहियां संविधान के धर्मनिरपेक्ष स्वभाव के ख़िलाफ़ होंगी तथा भ्रष्ट चुनावी अभ्यास माने जायेंगे।”

Tag:   

मोदी सरकार के मज़दूर-विरोधी, किसान-विरोधी, समाज-विरोधी और राष्ट्र-विरोधी अजेंडा को हराने के लिये संगठित हों!

Submitted by sampu on गुरु, 01/09/2016 - 04:32

2 सितंबर की आम हड़ताल को सफल बनाएं!

हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी की केन्द्रीय समिति का बयान, 28 अगस्त, 2016

साथियों,

Tag:   

70वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर :

Submitted by sampu on गुरु, 01/09/2016 - 04:30

हिन्दोस्तान के लिए कौन सा रास्ता?

हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी की केन्द्रीय समिति का बयान, 15 अगस्त, 2016

हिन्दोस्तान की सरकार ने 70वें स्वतंत्रता दिवस को बड़ी धूम-धाम से मनाने के लिए तैयारी की है। परंतु हमारी अधिकांश जनता इस बात से बहुत चिंतित है कि बर्तानवी उपनिवेशवादी शासन के खत्म होने के 69 वर्ष बाद, आज हिन्दोस्तानी समाज किस दिशा में जा रहा है।

Tag:   

पार्टी के दस्तावेज

Click to Download PDFइस पुस्तिका के प्रथम भाग में नोटबंदी के असली इरादों को समझाने तथा उनका पर्दाफाश करने के लिये, तथ्यों और गतिविधियों का विश्लेषण किया गया है। दूसरे भाग में सरकार के दावों - कि नोटबंदी से अमीर-गरीब की असमानता, भ्रष्टाचार और आतंकवाद खत्म होगा - का आलोचनात्मक मूल्यांकन किया गया है। तीसरे भाग में यह बताया गया है कि कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी के अनुसार, इन समस्याओं का असली समाधान क्या है तथा उस समाधान को हासिल करने के लिये फौरी कार्यक्रम क्या होना चाहिये।

(Click thumbnail to download PDF)

यह चुनाव एक फरेब है!हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी के महासचिव, कामरेड लाल सिंह का

मजदूर एकता लहर के संपादक, कामरेड चन्द्रभान के साथ साक्षात्कार

(PDF दस्तावेज को डाउनलोड करने के लिए कवर चित्र पर क्लिक करें)

यह बयान, ”बड़े पूँजीपतियों के लिये अच्छे दिन का मतलब मजदूर-किसान के लिये दुख-दर्द के दिन“, हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी की केन्द्रीय समिति की 31 मई, 2014 को सम्पन्न हुई परिपूर्ण सभा में हुए विचार-विमर्श और मूल्यांकन पर आधारित है।

(PDF दस्तावेज को डाउनलोड करने के लिए कवर चित्र पर क्लिक करें)

हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी के महासचिव, कामरेड लाल सिंह का,

मजदूर एकता लहर के संपादक, कामरेड चन्द्रभान के साथ साक्षात्कार

(PDF दस्तावेज को डाउनलोड करने के लिए कवर चित्र पर क्लिक करें)

हिन्दोस्तानी गणराज्य का नवनिर्माण करने और अर्थव्यवस्था को नई दिशा दिलाने के कार्यक्रम के इर्द-गिर्द एकजुट हों ताकि सभी को सुख और सुरक्षा सुनिश्चित की जा सके!

(PDF दस्तावेज को डाउनलोड करने के लिए कवर चित्र पर क्लिक करें)

ग़दर जारी है... हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी की प्रस्तुति

सौ वर्ष पहले अमरिका में हिंदोस्तानियों ने हिन्दोस्तान की ग़दर पार्टी की स्थापना की थी. यह उपनिवेशवाद-विरोध संघर्ष में एक मिल-पत्थर था.

पार्टी का लक्ष था क्रांति के जरिये अपनी मातृभूमि को बर्तानवी गुलामी से करा कर, एक एइसे आजाद हिन्दोस्तान की स्थापना करना, जहां सबके लिए बराबरी के अधिकार सुनिश्चित हो.

(PDF दस्तावेज को डाउनलोड करने के लिए कवर चित्र पर क्लिक करें)