गैस सब्सिडी में कटौती

Submitted by cgpiadmin on गुरु, 16/02/2017 - 21:09

मेक्सिको में मज़दूरों का विरोध आंदोलन

2 दिसम्बर, 2016 को मेक्सिको सरकार ने गैस सब्सिडी में कटौती की घोषणा की जो कि 1 जनवरी, 2017 से लागू हो गई। “गसोलिनाजो” के नाम से जानी जाने वाली, पेट्रोल की कीमत में इस बढ़ोतरी की वजह से पेट्रोल की कीमत 20 प्रतिशत तक बढ़ गई है।

पेट्रोल की कीमत बढ़ने से मज़दूर वर्ग और किसानों पर बहुत बड़ा बोझ आ गया है, जो कि ज़रूरत की चीजों के ऊंचे दामों के तले पहले से ही पिस रहा है। मेक्सिको के मेहनतकश लोग इस कदम से झुके नहीं और इसे स्वीकार नहीं किया। उन्होंने इसका जोरदार जबाब दिया और वे लाखों की तादाद में इसका विरोध करने के लिये सड़कों पर उतर आये। पूरे देशभर के कई शहरों में ये विरोध प्रदर्शन फैल गए हैं।

 

5 जनवरी, 2017 को वेरक्रुज राज्य जहां तेल का उत्पादन होता है, वहां 14000 बस, ट्रक और टैक्सी चालकों ने अनिश्चितकाल के लिये हड़ताल घोषित कर दी और हजारों ट्रकों, टैक्सियों और बसों को सड़कों पर खड़ा कर दिया। गौदलजरा शहर के मज़दूर वेरक्रुज के चालकों के समर्थन में सड़कों पर उतर आये और प्रदर्शन किये। प्रदर्शनकारियों ने कई महामार्गों, टोल नाकों को बंद कर दिया जो कि मेक्सिको के कई शहरों को जोड़ते हैं। मोरेलिया में परिवहन क्षेत्र के 2000 मज़दूरों ने प्रदर्शन किया और राष्ट्रपति पेना नेइतो के इस्तीफे की मांग करते हुए, सब्सिडी में कटौती को वापस लेने की मांग की। अकापुल्को गुएर्रेरो में बड़े पैमाने पर टैक्सी चालक सड़कों पर उतर आये। मेक्सिको सिटी तक जाने वाले महामार्गों पर अवरोध खड़े कर दिए और परिवहन क्षेत्र के मज़दूरों की हड़ताल क्विंताना रू के सेन जुआन शहर तक फैल गयी। मोंतेर्रे में हजारों परिवहन क्षेत्र के मज़दूर प्रदर्शन में शामिल हुए। विरोध प्रदर्शन मेक्सिको की उत्तरी सीमा में फैल गया है जहां प्रदर्शनकारियों ने अमरीका तक जाने वाली रेल लाइन को बंद कर दिया है। ग्वाटेमाला देश की सीमा पर भी प्रदर्शन किये गए हैं।   

परिवहन क्षेत्र के मज़दूरों की अगुवाई में प्रदर्शनकारियों ने कई तेल प्रोसेसिंग केन्द्रों को बंद कर दिया है। तेल उत्पादन के कई मुख्य केन्द्रों को राज्य और केंद्र पुलिस के साथ-साथ सेना द्वारा घेर लिया गया है। राज्य के पुलिस बल ने प्रदर्शन को खत्म करने के लिए जबरदस्त हमले शुरू कर दिए हैं। अब तक 4 लोगों के मारे जाने की खबर है, जबकि कई लोग घायल हुए हैं और एक हजार से अधिक लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया है।

सरकार का रवैया राष्ट्रपति की इस बात से साफ होता है कि “प्रदर्शन करने और लूटपाट करने से परिस्थिति बदलेगी नहीं”। दूसरी तरफ लोग सब्सिडी में कटौती के इस हमले को स्वीकार करने को तैयार नहीं हैं। यह आंदोलन बढ़ता ही जा रहा है, जबकि ट्रेड यूनियनों को इसका विरोध करने के लिए इस्तेमाल किया जा रहा है, ताकि यह आंदोलन राष्ट्रव्यापी हड़ताल न बन सके।

1938 में ब्रिटिश तेल कंपनी के खिलाफ़ मज़दूरों की विशाल हड़ताल के बाद मेक्सिको में तेल उद्योग का राष्ट्रीयकरण कर दिया गया था। मेक्सिको की सरकार का मौजूदा कदम यह साफ दिखाता है कि वह देश के तेल संसाधनों को फिर से निजी कंपनियों के हाथों में देना चाहती है। जबकि अमरीका का अधिकतर मीडिया इस विरोध आंदोलन को दुनिया के लोगों से छुपाने की कोशिश कर रहा है, तो कुछ मीडिया इसे गलत तरीके से पेश करते हुए, इसे लूटपाट करते लोगों का हिंसक झुण्ड करार दे रहा है। अमरीकी मीडिया इसे “गड़बड़ी” बता रहा है और उसे डर है कि कहीं यह इतना न बढ़ जाये कि अमरीका के मज़दूर भी इसमें शामिल हो जायें।

Tag:    Jan 16-31 2017    Struggle for Rights    2017   

पार्टी के दस्तावेज

यह चुनाव एक फरेब है!हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी के महासचिव, कामरेड लाल सिंह का

मजदूर एकता लहर के संपादक, कामरेड चन्द्रभान के साथ साक्षात्कार

(PDF दस्तावेज को डाउनलोड करने के लिए कवर चित्र पर क्लिक करें)

यह बयान, ”बड़े पूँजीपतियों के लिये अच्छे दिन का मतलब मजदूर-किसान के लिये दुख-दर्द के दिन“, हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी की केन्द्रीय समिति की 31 मई, 2014 को सम्पन्न हुई परिपूर्ण सभा में हुए विचार-विमर्श और मूल्यांकन पर आधारित है।

(PDF दस्तावेज को डाउनलोड करने के लिए कवर चित्र पर क्लिक करें)

हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी के महासचिव, कामरेड लाल सिंह का,

मजदूर एकता लहर के संपादक, कामरेड चन्द्रभान के साथ साक्षात्कार

(PDF दस्तावेज को डाउनलोड करने के लिए कवर चित्र पर क्लिक करें)

हिन्दोस्तानी गणराज्य का नवनिर्माण करने और अर्थव्यवस्था को नई दिशा दिलाने के कार्यक्रम के इर्द-गिर्द एकजुट हों ताकि सभी को सुख और सुरक्षा सुनिश्चित की जा सके!

(PDF दस्तावेज को डाउनलोड करने के लिए कवर चित्र पर क्लिक करें)

ग़दर जारी है... हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी की प्रस्तुति

सौ वर्ष पहले अमरिका में हिंदोस्तानियों ने हिन्दोस्तान की ग़दर पार्टी की स्थापना की थी. यह उपनिवेशवाद-विरोध संघर्ष में एक मिल-पत्थर था.

पार्टी का लक्ष था क्रांति के जरिये अपनी मातृभूमि को बर्तानवी गुलामी से करा कर, एक एइसे आजाद हिन्दोस्तान की स्थापना करना, जहां सबके लिए बराबरी के अधिकार सुनिश्चित हो.

(PDF दस्तावेज को डाउनलोड करने के लिए कवर चित्र पर क्लिक करें)

सिर्फ मज़दूर वर्ग ही हिन्दोस्तान को बचा सकता है! हिन्दोस्तान की ग़दर पार्टी की केंद्रीय समिति का बयान, ३० अगस्त २०१२

(PDF दस्तावेज को डाउनलोड करने के लिए कवर चित्र पर क्लिक करें)