शिक्षा के निजीकरण के खि़लाफ़ व रोज़गार के लिये संघर्ष

18 फरवरी, 2019 को 5,000 से भी अधिक छात्रों ने रामलीला मैदान से संसद मार्ग तक जुलूस निकाला, जिसमें नौकरियों के लिये और शिक्षा के निजीकरण के खि़लाफ़ मांगें उठाई गयीं।

Young India Adhikar Rally Feb 2019

जुलूस में पंजाब, हरियाणा, उत्तराखंड, मध्य प्रदेश, केरल, कर्नाटक, तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, असम, बिहार, त्रिपुरा और अन्य राज्यों से छात्रों और नौजवानों ने भाग लिया। इसमें भाग लेने वाले संगठनों में स्टूडेंट्स फेडरेशन आॅफ इंडिया (एस.एफ.आई.), आॅल इंडिया डेमोक्रेटिक स्टूडेंट्स आर्गेनाइजेशन (ए.आई.डी.एस.ओ.), प्रोग्रेसिव स्टूडेंट्स यूनियन (पी.एस.यू.), आॅल इंडिया स्टूडेंट्स ब्लाक (ए.आई.एस.बी.) और आॅल इंडिया स्टूडेंट्स फेडरेशन (ए.आई.एस.एफ.) शामिल थे।

छात्रों ने ध्यान दिलाया कि राज्य शिक्षा पर खर्च को कम कर रहा है और शिक्षा के निजीकरण को जोर-शोर से आगे बढ़ा रहा है। इससे फीसों में बढ़ोतरी हुई है और निजी शिक्षा संस्थानों और महंगे पाठ्यक्रमों में तेज़ी से बढ़ोतरी हुई है। इसकी वजह से श्रमिक वर्ग के परिवारों के छात्र उच्च शिक्षा से वंचित हो रहे हैं।

छात्रों ने अपना आठ-सूत्रीय मांगपत्र प्रस्तुत किया जिसमें के.जी. से पी.जी. तक निःशुल्क व समान शिक्षा, बजट का 10 प्रतिशत हिस्सा शिक्षा पर, आरक्षण को लागू करना, पिछड़े वर्गों के शोध छात्रों की सभी बकाया स्काॅलरशिव व फेलोशिप को जारी करना, सभी के लिये नौकरियों की गारंटी और महिलाओं की सुरक्षा, इत्यादि शामिल हैं।

इसके पहले, 7 फरवरी को देश के विभिन्न इलाकों से सैंकडों नौजवानों और छात्रों ने दिल्ली के लाल किले से जंतर-मंतर तक, ”यंग इंडिया अधिकार मंच“ के तहत जुलूस निकाला था। उन्होंने बढ़ती बेरोज़गारी और मौजूदा सरकार की नौजवानों के प्रति वादों को पूरा करने में विफलता का विरोध किया था। उन्होंने मांग की थी कि सभी को शिक्षा और नौकरी की गारंटी होनी चाहिये।

Tag:   

Share Everywhere

Mar 1-15 2019    Struggle for Rights    Rights     2019   

पार्टी के दस्तावेज

हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी के महासचिव, कामरेड लाल सिंह का,

मजदूर एकता लहर के संपादक, कामरेड चन्द्रभान के साथ साक्षात्कार

(PDF दस्तावेज को डाउनलोड करने के लिए कवर चित्र पर क्लिक करें)

हिन्दोस्तानी गणराज्य का नवनिर्माण करने और अर्थव्यवस्था को नई दिशा दिलाने के कार्यक्रम के इर्द-गिर्द एकजुट हों ताकि सभी को सुख और सुरक्षा सुनिश्चित की जा सके!

(PDF दस्तावेज को डाउनलोड करने के लिए कवर चित्र पर क्लिक करें)

ग़दर जारी है... हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी की प्रस्तुति

सौ वर्ष पहले अमरिका में हिंदोस्तानियों ने हिन्दोस्तान की ग़दर पार्टी की स्थापना की थी. यह उपनिवेशवाद-विरोध संघर्ष में एक मिल-पत्थर था.

पार्टी का लक्ष था क्रांति के जरिये अपनी मातृभूमि को बर्तानवी गुलामी से करा कर, एक एइसे आजाद हिन्दोस्तान की स्थापना करना, जहां सबके लिए बराबरी के अधिकार सुनिश्चित हो.

(PDF दस्तावेज को डाउनलोड करने के लिए कवर चित्र पर क्लिक करें)

सिर्फ मज़दूर वर्ग ही हिन्दोस्तान को बचा सकता है! हिन्दोस्तान की ग़दर पार्टी की केंद्रीय समिति का बयान, ३० अगस्त २०१२

(PDF दस्तावेज को डाउनलोड करने के लिए कवर चित्र पर क्लिक करें)

निजीकरण और उदारीकरण के कार्यक्रम की हरायें!

मजदूरों और किसानों की सत्ता स्थापित करने के उद्देश्य से संघर्ष करें!

हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी की केंद्रीय समिति का आवाहन, २३ फरवरी २०१२

अर्थव्यवस्था के मुख्य क्षेत्रों - बैंकिंग और बीमा, मशीनरी और यंत्रों का विनिर्माण, रेलवे, बंदरगाह, सड़क परिवहन, स्वास्थ्य, शिक्षा, आदि - के मजदूर यूनियनों के बहुत से संघों ने 28 फरवरी २०१२ को सर्व हिंद आम हड़ताल आयोजित करने का फैसला घोषित किया है। यह हड़ताल मजदूर वर्ग की सांझी तत्कालीन मांगों को आगे रखने के लिये की जा रही है।

(PDF दस्तावेज को डाउनलोड करने के लिए कवर चित्र पर क्लिक करें)

मजदूर वर्ग के लिये राज्य सत्ता को अपने हाथ में लेने की जरूरत23-24 दिसम्बर, 2011 को मजदूर वर्ग गोष्ठी में प्रारंभिक दस्तावेज कामरेड लाल सिंह ने हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी की केन्द्रीय समिति की ओर से पेश किया। मजदूर वर्ग के लिये राज्य सत्ता को अपने हाथ में लेने की जरूरत शीर्षक के इस दस्तावेज को, गोष्ठी में हुई चर्चा के आधार पर, संपादित किया गया है और केन्द्रीय समिति के फैसले के अनुसार प्रकाशित किया जा रहा है।

(PDF दस्तावेज को डाउनलोड करने के लिए कवर चित्र पर क्लिक करें)