बजट के खि़लाफ़ दिल्ली की ट्रेड यूनियनों का विरोध प्रदर्शन

2 मार्च, 2020 को दिल्ली की ट्रेड यूनियनों ने केन्द्र सरकार द्वारा पेश किए गए बजट के विरोध में कनाट प्लेस स्थित बैंक ऑफ़ बड़ौदा से लेकर जंतर-मंतर तक जुलूस निकाला।

TU against budget

यह जुलूस लाल बैनरों और झंडों से सजा हुआ था। बैनरों पर लिखे नारे थे - ‘इंक़लाब ज़िन्दाबाद!’, ‘प्रस्तावित बजट वापस लो!’, ‘धर्म के नाम पर मज़दूर वर्ग की एकता को तोड़ना बंद करो!’, ‘न्यूनतम वेतन 21,000 लागू करो!’, ‘राज्य प्रायोजित हिंसा मुर्दाबाद!’, ‘जन-विरोधी बजट वापस लो!’, ‘संसद इजारेदार पूंजीपतियों का साधन है!’, ‘निजीकरण और उदारीकरण के ज़रिये भूमंडलीकरण के कार्यक्रम के खि़लाफ़ एकजुट संघर्ष तेज़ करें!’

सैकड़ों मज़दूरों का यह जुलूस जंतर-मंतर पर आकर एक सभा में तब्दील हो गया।

सभा को संबोधित करने वालों में शामिल थे - इंटक से अशोक सिंह, एटक से धीरेन्द्र शर्मा, सीटू से अनुराग सक्सेना, मज़दूर एकता कमेटी से संतोष कुमार, एच.एम.एस. से तरनी पासवान, ए.आई.यू.टी.यू.सी. से आर.के. शर्मा, यू.टी.यू.सी. से मोन्टू सरकार और सेवा से लता।

ट्रेड यूनियनों के नेताओं ने अपने संबोधन में बताया कि वित्तमंत्री निर्मला सीतारमन ने जो बजट पेश किया है वह जन-विरोधी और देश-विरोधी है। सरकार द्वारा 2019 में पूंजीपतियों को टैक्स में 1,44,000 करोड़ रुपये की छूट दी गयी थी। कुल मिलाकर पिछले 6 महीने में पूंजीपतियों को 1,69,000 करोड़ रुपये का सीधा फ़ायदा पहुंचाया गया है। इस बजट के ज़रिये बड़ी-बड़ी इजारेदार कंपनियों को सालाना 25,000 करोड़ रुपये का सीधा-सीधा फ़ायदा पहुंचाया जायेगा।

देश में आर्थिक मंदी आने का सीधा कारण है कि मज़दूरों किसानों की क्रय शक्ति कम हो गई है। अगर देश को आर्थिक मंदी से निकालना है तो लोगों का वेतन बढ़ाना होगा। अगर पूंजीपतियों को दिये जाने वाले वाले 1,69,000 करोड़ रुपये मज़दूरों और किसानों की आय को बढ़ाने में लगाये जायें तो आर्थिक मंदी को कम किया जा सकता है। सरकार का कहना है कि 2,10,000 करोड़ की आमदनी का लक्ष्य है। यह आमदनी सरकार सार्वजनिक संस्थानों - भारतीय जीवन बीमा निगम, भारतीय रेल, आयुध फैक्ट्रियां, बी.एस.एन.एल., एयर इंडिया आदि को कौड़ियों के दाम पर इजारेदार पूंजीपतियों को बेचेगी। यह सब उदारीकरण और निजीरकण के ज़रिये भूमंडलीकरण की नीति के तहत किया जा रहा है।

8 जनवरी की हड़ताल में 25 करोड़ से ज्यादा मज़दूरों ने अपनी मांगों को लेकर हड़ताल की थी। आज केन्द्र सरकार, धर्म के आधार पर नागरिक संशोधन अधिनियम को लाकर मज़दूर वर्ग और किसानों की एकता में फूट डालने का काम कर रही है। जिसका नतीजा है उत्तर-पूर्व दिल्ली का हत्याकांड। यह हिन्दोस्तानी राज्य द्वारा किये गये 1984 में सिखों के जनसंहार की तरह है। इससे राज्य का सांप्रदायिक चेहरा उजागर होता है। हमें मज़दूरों और किसानों के एक राज्य की स्थापना करनी होगी, जहां लोगों को सुख-सुरक्षा प्रदान करना राज्य की ज़िम्मेदारी होगी।

‘इंक़लाब ज़िन्दाबाद!’, ‘मज़दूर एकता ज़िन्दाबाद!’, ‘मज़दूर-विरोधी बजट वापस लो!’, ‘हम सब एक हैं!’, ‘न्यूनतम वेतन 21,000 रुपये लागू करो!’, आदि नारों के साथ सभा का समापन किया गया।  

Tag:   

Share Everywhere

Mar 16-31 2020    Struggle for Rights    Rights     2020   

पार्टी के दस्तावेज

8 जनवरी, 2020 की सर्व हिन्द आम हड़ताल को सफल करें!

मज़दूर एकता कमेटी का आह्वान

देश की दिशा पूंजीपतियों की अमीरी को बढ़ा रही है और मज़दूर, किसान व सभी मेहनतकशों को ग़रीबी में धकेल रही है। इस रास्ते का विरोध करने के लिए और देश की दौलत पर अपने अधिकार का दावा करने के लिए यह हड़ताल आयोजित की जा रही है।

मेहनतकशों का है यह नारा, हम हैं इसके मालिक! हिन्दोस्तान हमारा!

thumbपूंजीपति वर्ग की राजनीतिक पार्टियां यह दावा करती हैं कि उदारीकरण, निजीकरण और भूमंडलीकरण के कार्यक्रम का कोई विकल्प नहीं है। परंतु सच तो यह है कि इसका विकल्प है। इसका विकल्प है अर्थव्यवस्था को एक नयी दिशा दिलाना, ताकि लोगों की जरूरतों को पूरा करने को प्राथमिकता दी जाए, न कि पूंजीपतियों की लालच को पूरा करने को। यह हिन्दोस्तान के नवनिर्माण का कार्यक्रम है।

(Click thumbnail to download PDF)

5th Congress Documentहिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी के महासचिव कामरेड लाल सिंह द्वारा, पार्टी की केन्द्रीय समिति की ओर से, हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी के पांचवें महाअधिवेशन को यह रिपोर्ट पेश की गई। महाअधिवेशन में इस पर चर्चा की गयी और इसे अपनाया गया। पांचवें महाअधिवेशन के फैसले के अनुसार, इस रिपोर्ट को सम्पादकीय शोधन के साथ, प्रकाशित किया जा रहा है।

(Click thumbnail to download PDF)

Click to Download PDFइस पुस्तिका के प्रथम भाग में नोटबंदी के असली इरादों को समझाने तथा उनका पर्दाफाश करने के लिये, तथ्यों और गतिविधियों का विश्लेषण किया गया है। दूसरे भाग में सरकार के दावों - कि नोटबंदी से अमीर-गरीब की असमानता, भ्रष्टाचार और आतंकवाद खत्म होगा - का आलोचनात्मक मूल्यांकन किया गया है। तीसरे भाग में यह बताया गया है कि कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी के अनुसार, इन समस्याओं का असली समाधान क्या है तथा उस समाधान को हासिल करने के लिये फौरी कार्यक्रम क्या होना चाहिये।

(Click thumbnail to download PDF)

यह चुनाव एक फरेब है!हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी के महासचिव, कामरेड लाल सिंह का

मजदूर एकता लहर के संपादक, कामरेड चन्द्रभान के साथ साक्षात्कार

(PDF दस्तावेज को डाउनलोड करने के लिए कवर चित्र पर क्लिक करें)

यह बयान, ”बड़े पूँजीपतियों के लिये अच्छे दिन का मतलब, मजदूर-किसान के लिये दुख-दर्द के दिन“, हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी की केन्द्रीय समिति की 31 मई, 2014 को सम्पन्न हुई परिपूर्ण सभा में हुए विचार-विमर्श और मूल्यांकन पर आधारित है।

(PDF दस्तावेज को डाउनलोड करने के लिए कवर चित्र पर क्लिक करें)