नवीनतम - गतिविधियाँ, विश्लेषण, प्रसार, चर्चा ....

  • लोगों के हाथ में राज्य सत्ता - यही आज वक्त की मांग है

    हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी की केन्द्रीय समिति का बयान, 23 जनवरी, 2020

    26 जनवरी के दिन, नयी दिल्ली के राजपथ पर टैकों और मिसाइल लांचरों की परेड होगी। राजधानी में, लड़ाकू विमान आसमान में दिखेंगे। हिन्दोस्तानी गणतंत्र की सैनिक शक्ति सारी दुनिया के सामने प्रदर्शित की जायेगी। हमारे शासक बड़े घमंड के साथ दावा करेंगे कि इस गणतंत्र में सब कुछ बहुत बढ़िया चल रहा है।

    परन्तु कश्मीर से केरल तक, और महाराष्ट्र से मणिपुर तक, हरेक हिन्दोस्तानी यह जानता है कि इस गणतंत्र में सब कुछ बहुत बढ़िया नहीं चल रहा है।

  • Thiruvananthpuram

    8 जनवरी, 2020 की सर्व हिन्द हड़ताल में देश की अर्थव्यवस्था के सभी क्षेत्रों के मज़दूरों और मेहनतकश लोगों ने पूरे जोश के साथ हिस्सा लिया। यह आम हड़ताल सभी केंद्रीय यूनियनों, सर्व हिन्द फेडरेशनों और विभिन्न शहरों, उद्योगों और सेवा कंपनियों सहित ग्रामीण मज़दूरों को संगठित करने वाली सैकड़ों ट्रेड यूनियनों के बुलावे पर आयोजित की गयी थी और मज़दूरों ने इसे पूरा समर्थन देकर सफल बनाया।

  • हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी की केन्द्रीय समिति का बयान, 6 जनवरी, 2020

    कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी 5 जनवरी की शाम को जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय के छात्रों और शिक्षकों पर किये गए जानलेवा हमले की कड़ी निंदा करती है। लोहे के डंडों और लाठियों से लैस, नकाबपोश गुंडों ने परिसर में घुसकर, बड़ी बेरहमी से हिंसा और अराजकता फैलाई। इस पूर्व-नियोजित और राज्य द्वारा आयोजित हमले में 20 से अधिक छात्र-छात्राएं व महिला और पुरुष शिक्षक गंभीर रूप से घायल हुए हैं।

  • Philadelphia protest

    3 जनवरी, 2020 को अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने ऐलान किया कि अमरीकी सेना ने एक मिसाइल हमले में ईरान के मेजर-जनरल कासिम सुलेमानी की हत्या कर दी है, जब उनका काफिला बगदाद अंतर्राष्ट्रीय एअरपोर्ट से निकल रहा था। जनरल सुलेमानी के साथ-साथ इराकी सेना के जनरल अबुद मेहदी अल-मुहांदिस सहित इराकी सेना के आठ अन्य अधिकारियों की भी इस हमले में हत्या की गयी। इराक की धरती पर ईरान और इराक के नेताओं की यह कायरतापूर्ण हत्या तमाम अंतर्राष्ट्रीय मानदंडों और कानूनों का घोर उल्लंघन है, क्योंकि अमरीका ने इराक या ईरान पर जंग का ऐलान नहीं किया है।

  • Mumbai bank employees

    मुंबई में रेल मज़दूरों का प्रदर्शन

    8 जनवरी की सर्व हिन्द हड़ताल के समर्थन में मुंबई में हजारों रेल मज़दूर बाहर आए। मुंबई सी.एस.टी., भारत माता जंक्शन के साथ-साथ दादर सेन्ट्रल रेलवे स्टेशन के समक्ष प्रदर्शन आयोजित किये गए।

    कामगार एकता कमेटी के साथ ऑल इंडिया लोको रनिंग स्टाफ एसोसियेशन (ए.आई.एल.आर.एस.ए.) और ऑल इंडिया गार्ड कौंसिल (ए.आई.जी.सी.) ने मुंबई सी.एस.टी. स्टेशन की मोटरमेन-गार्ड लॉबी के समक्ष मोटरमेनों, रेल चालकों और गार्डों ने भारी संख्या में सुबह के समय 10.30 से दोपहर 12 के दौरान एक प्रदर्शन आयोजित किया। कामगार एकता कमेटी के कॉमरेड मैथ्यू और ए.आई.एल.आर.एस.ए. के सेन्ट्रल रेलवे के संयुक्त महासचिव कॉमरेड आर.के. शर्मा ने रेल चालकों, गार्डों और यात्रियों को संबोधित किया।

  • Country-wide protests against CAA

    12 दिसंबर को नागरिकता संशोधन अधिनियम पर राष्ट्रपति द्वारा हस्ताक्षर करने के बाद से और जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय तथा अन्य विश्वविद्यालयों में छात्रों पर हिंसा के विरोध में प्रदर्शन शुरू हुआ। यह विरोध प्रदर्शन नए साल में पूरे जोश के साथ जारी है। दिल्ली, बेंगलूरू और देश के कई अन्य शहरों में नए साल का आगमन इन नारों के साथ हुआ - “सी.ए.ए.-एन.आर.सी. नहीं चलेगा!”, “छात्रों को शांतिपूर्ण तरीके से विरोध प्रदर्शन करने का अधिकार है!”, ”धर्म को नागरिकता का आधार बनाना हमें मंजूर नहीं!”

  • Demonstration in front of India House in London

    लंदन में विशाल विरोध प्रदर्शन और सभाएं

    ग़दर इंटरनेशनल और इंडियन वर्कर्स एसोसिएशन (ग्रेट-ब्रिटेन) ने 4 जनवरी 2020 को इल्फोर्ड में नागरिकता संशोधन अधिनियम और नागरिकों की राष्ट्रीय सूची के खि़लाफ़ एक आम सभा आयोजित की। सभा से पहले लंदन में फारेस्ट गेट से न्यूहेम तक चार किलोमीटर लंबा जुलूस निकाला गया। इस जुलूस में अलग-अलग धर्मों के करीब 2000 लोगों सहित प्रगतिशील बुद्धिजीवियों और संगठनों ने हिस्सा लिया। इस जुलूस का समापन न्यूहेम के एक पार्क में एक जुझारू रैली के साथ हुआ।

  • काफी लम्बे समय से हिन्दोस्तानी अर्थव्यवस्था संकट में फंसी हुई है। बढ़ती बेरोज़गारी, मज़दूरों के वास्तविक वेतन में स्थिरता या गिरावट और मेहनतकश लोगों द्वारा वस्तुओं की खपत में गिरावट इस संकट के लक्षण हैं।

    हिन्दोस्तान में उत्पादित वस्तुओं और सेवाओं का मूल्य और उसकी हिन्दोस्तान में खपत और उसके निर्यात का मूल्य आर्थिक वृद्धि के मुख्य सूचकांक हैं। पूंजीपतियों और सरकार द्वारा अर्थव्यवस्था में पूंजी निवेश एक और सूचकांक है।

  • वैस्टर्न रेलवे मज़दूर संघ (डब्ल्यू.आर.एम.एस.) ने रेलवे ट्रेनों के निजीकरण और दूसरों को चलाने के लिए दिए जाने (आउटसोर्सिंग) के विरोध में 10 जनवरी को डिविज़नल रेलवे मैनेजर के ऑफिस के समक्ष मुंबई सेंट्रल स्टेशन पर एक विरोध प्रदर्शन किया। मीटिंग को वैस्टर्न रेलवे मजदूर संघ के महासचिव व नेशनल फेडरेशन ऑफ इंडियन रेलवेमेन के उपाध्यक्ष जे.जी. माहुरकर ने संबोधित किया।

  • टोरोंटो कनाडा

    हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी की स्थापना की 39वीं सालगिरह टोरोंटो में बड़ी धूमधाम और जोश के साथ हिन्दोस्तान और दुनिया के अन्य हिस्सों में मनाई गयी। इन सभाओं में मौजूदा हालातों पर भाषणों, कविताओं और चर्चाओं का आयोजन हुआ। 

  • प्यारे साथियों,
    आप सभी को क्रांतिकारी अभिवादन!
    आज, नव वर्ष में प्रवेश करते हुए, हमें वर्तमान स्थिति पर विचार करना है और यह विचार करना है कि हमारे प्यारे देश के लोगों के उज्ज्वल भविष्य के लिए हमें क्या करना होगा।

  • Red_flags

    हमारी पार्टी की स्थापना के 40वें वर्ष के आरम्भ के अवसर पर, देश की कई जगहों पर तथा विदेशों में पार्टी के कामरेड जोशपूर्ण समारोह मना रहे हैं। हर जगह पर, इन समारोहों में आशावाद की भावना भरपूर है।

  • JVS

    21 दिसंबर, 2019 को अंतर्राष्ट्रीय मज़दूर वर्ग के महान नेता और शिक्षक कामरेड जोसफ विस्सारियोनोविच स्टालिन के जन्मदिवस की 140वीं वर्षगांठ मनाई गई। हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी ने इस अवसर पर नयी दिल्ली में एक सभा का आयोजन किया जिसकी अध्यक्षता कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी के महासचिव कामरेड लाल सिंह ने की।

  • Com Renuka

    बहुत खेद के साथ, हम अपनी प्रिय साथी, कॉमरेड रेणुका के देहांत की सूचना दे रहे हैं। उनका निधन मुम्बई में 5 दिसम्बर को हुआ। लंबे समय तक बीमारी के साथ जूझने के बाद मात्र 45 साल की उम्र में वे चल बसीं।

  • Com Lawrence

    बड़े दुख के साथ, हम अपने साथी, कॉमरेड लॉरेंस डिसूज़ा के देहांत की सूचना दे रहे हैं। उनका निधन मुम्बई में 30 नवम्बर को हुआ, जब वे 63 साल के थे। कॉमरेड की प्रिय पत्नी तथा बच्चों को, तथा इन प्रिय कॉमरेड के साथियों को, दोस्तों को तथा सहकर्मियों को, कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी की केन्द्रीय समिति अपनी हार्दिक सहानुभूति व्यक्त करती है।

  • एन.आर.सी. नहीं चलेगा!

    लोगों को धर्म के आधार पर बांटना बंद करो!

    कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी की केन्द्रीय कमेटी का बयान, 24 दिसंबर, 2019

    बीते 11 दिन से, देश भर में करोड़ों-करोड़ों लोग सड़कों पर उतरकर, शांतिपूर्ण विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। हम मांग कर रहे हैं कि सरकार नागरिकता संशोधन अधिनियम (सी.ए.ए.) को फौरन वापस ले और देश भर में राष्ट्रीय नागरिकता पंजी (एन.आर.सी.) बनाने के अपने फैसले को फौरन वापस ले।

पार्टी के दस्तावेज