What Kind of Party?

Publication Details
Notes
blank-book-with-white-cover.jpg
  • Year: Dec 1993
  • Author: CGPI
  • Languages: English, Hindi, Marathi, Punjabi, Tamil
  • Mediums: Print and Electronic for English.
  • Price: rs200 / USD $8
  • PDF_File.png PDF in Hindi

 (Document adopted at the Second National Consultative Conference of the Communist Ghadar Party of India, held on December 29-30, 1993.)

We are standing at a very particular time in history, a time when the world bourgeoisie and reaction are launching their greatest offensive against the livelihood of the people and against the progress of society. There is a great offensive against Communism and many parties have turned their backs on the ideology and vision crucial for the working class to emancipate itself. This is a period of the retreat of revolution, the ebb of revolution, a period when the forces of counter-revolution are on the offensive. 

Description:

blank-book-with-white-cover.jpg

We are standing at a very particular time in history, a time when the world bourgeoisie and reaction are launching their greatest offensive against the livelihood of the people and against the progress of society. There is a great offensive against Communism and many parties have turned their backs on the ideology and vision crucial for the working class to emancipate itself. This is a period of the retreat of revolution, the ebb of revolution, a period when the forces of counter-revolution are on the offensive.  

The Second National Consultative Conference was organised by the Communist Ghadar Party of India (CGPI) as part of the struggle to preserve the progressive forces and expand their ranks, to extend the space where the doctrine of communism can flourish and to prepare for the time when the working class and people will launch their own offensive against the world bourgeoisie.   

The bourgeoisie in India has launched an unprecedented attack on the livelihood and rights of the people. It is blocking the path for the progress of society. At the same time it is caught up in a profound crisis, especially in the political sphere. To say that this crisis is because of the refusal of the working class and people to go along with the political system as it exists in the country today will be to state the obvious. It cannot be denied that the present economic and political system just does not work. It does not provide for the people. The system cannot benefit society and is only exacerbating the contradictions inherent to it. It is also doing the same internationally... 

 

Cover photograph:

 

 PDF_File.pngPDF version

- Hindi

Tag:   

Share Everywhere

Publications   

पार्टी के दस्तावेज

8 जनवरी, 2020 की सर्व हिन्द आम हड़ताल को सफल करें!

मज़दूर एकता कमेटी का आह्वान

देश की दिशा पूंजीपतियों की अमीरी को बढ़ा रही है और मज़दूर, किसान व सभी मेहनतकशों को ग़रीबी में धकेल रही है। इस रास्ते का विरोध करने के लिए और देश की दौलत पर अपने अधिकार का दावा करने के लिए यह हड़ताल आयोजित की जा रही है।

मेहनतकशों का है यह नारा, हम हैं इसके मालिक! हिन्दोस्तान हमारा!

thumbपूंजीपति वर्ग की राजनीतिक पार्टियां यह दावा करती हैं कि उदारीकरण, निजीकरण और भूमंडलीकरण के कार्यक्रम का कोई विकल्प नहीं है। परंतु सच तो यह है कि इसका विकल्प है। इसका विकल्प है अर्थव्यवस्था को एक नयी दिशा दिलाना, ताकि लोगों की जरूरतों को पूरा करने को प्राथमिकता दी जाए, न कि पूंजीपतियों की लालच को पूरा करने को। यह हिन्दोस्तान के नवनिर्माण का कार्यक्रम है।

(Click thumbnail to download PDF)

5th Congress Documentहिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी के महासचिव कामरेड लाल सिंह द्वारा, पार्टी की केन्द्रीय समिति की ओर से, हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी के पांचवें महाअधिवेशन को यह रिपोर्ट पेश की गई। महाअधिवेशन में इस पर चर्चा की गयी और इसे अपनाया गया। पांचवें महाअधिवेशन के फैसले के अनुसार, इस रिपोर्ट को सम्पादकीय शोधन के साथ, प्रकाशित किया जा रहा है।

(Click thumbnail to download PDF)

Click to Download PDFइस पुस्तिका के प्रथम भाग में नोटबंदी के असली इरादों को समझाने तथा उनका पर्दाफाश करने के लिये, तथ्यों और गतिविधियों का विश्लेषण किया गया है। दूसरे भाग में सरकार के दावों - कि नोटबंदी से अमीर-गरीब की असमानता, भ्रष्टाचार और आतंकवाद खत्म होगा - का आलोचनात्मक मूल्यांकन किया गया है। तीसरे भाग में यह बताया गया है कि कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी के अनुसार, इन समस्याओं का असली समाधान क्या है तथा उस समाधान को हासिल करने के लिये फौरी कार्यक्रम क्या होना चाहिये।

(Click thumbnail to download PDF)

यह चुनाव एक फरेब है!हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी के महासचिव, कामरेड लाल सिंह का

मजदूर एकता लहर के संपादक, कामरेड चन्द्रभान के साथ साक्षात्कार

(PDF दस्तावेज को डाउनलोड करने के लिए कवर चित्र पर क्लिक करें)

यह बयान, ”बड़े पूँजीपतियों के लिये अच्छे दिन का मतलब, मजदूर-किसान के लिये दुख-दर्द के दिन“, हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी की केन्द्रीय समिति की 31 मई, 2014 को सम्पन्न हुई परिपूर्ण सभा में हुए विचार-विमर्श और मूल्यांकन पर आधारित है।

(PDF दस्तावेज को डाउनलोड करने के लिए कवर चित्र पर क्लिक करें)