नौजवानों ने बुनियादी समस्याओं को उजागर किया

11 फरवरी, 2018 को दक्षिणी दिल्ली की सबसे बड़ी रिहायशी कालोनी - संगम विहार के माखन चैक पर लोक राज संगठन की पहल पर, अचीवर एम्बिशन अकादमी व एस.बी. काॅन्वेंट स्कूल के सहयोग से एक प्रतियोगिता का आयोजन किया। इस प्रतियोगिता का मुख्य शीर्षक था: लोगों की है मांग - सबको मिले, सुख-सुरक्षा, रोज़गार व सम्मान! इस प्रतियोगिता में 300 छात्र-छात्राओं ने भाग लिया। प्रतियोगिता के बाद एक जनसभा हुई जिसमें, पुरस्कार वितरण भी किया गया, इसमें प्रतिभागियों और उनके माता-पिता तथा स्थानीय नौजवानों सहित लगभग 500 से ज्यादा लोग शामिल हुए।

sangam Vihar

निबंध लेखन में परंपरा से हटकर विषय दिए गए थे। जैसे कि स्कूल व कालोनी में समस्याएं और उसका समाधान, नोटबंदी से समस्याएं, आदि। चित्रकला में शहीद भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु के चित्र, मेरी कालोनी और बाज़ार का दृश्य बनाने के विषय दिये गये थे और क्विज़ में आज़ादी आंदोलन के जुड़े सवाल थे।

सभी नौजवानों ने अपने निबंध और चित्रकला के माध्यम से संगम विहार की समस्याओं को उजाकर किया। प्रतिभागियों ने निबंध में लिखा कि संगम विहार में आने-जाने के लिये मात्र दो ही रास्ते हैं और वे रास्ते भी टूटे हुये हैं, उन रास्तों में पानी भरा हुआ है। इन रास्तों से हजारों-हजारों लोग रोज़ाना अपनी नौकरी पर जाते हैं। इन्हीं रास्तों से नौजवान और बच्चे स्कूल के लिये जाते हैं, जिसमें उनको घंटों का समय लग जाता है। इस कालोनी को लगभग 40 साल हो गये हैं लेकिन आज तक यहां जलबोर्ड द्वारा पीने का पानी उपलब्ध नहीं कराया गया है। राजनीतिक पार्टियों के नेता 5 साल में एक बार आकर झूठे वादे करते हैं और जीत कर चले जाते हैं। लेकिन समस्याएं जस की तस बनी रहती हैं। नौजवानों ने चित्रकला के माध्यम से शहीद भगत सिंह का चित्र बनाया और अपने दूसरे चित्रों में संगम विहार की समस्याओं को बखूबी दर्शाया।

जनसभा में लोक राज संगठन के पदाधिकारियों के अलावा स्थानीय अध्यापक आमंत्रित थे, जिन्होंने प्रतियोगियों को पुरस्कार देकर सम्मानित किया और सभा को संबोधित भी किया। संबोधित करने वालों में शामिल थे - लोक राज संगठन की सर्व हिन्द परिषद से प्रो. भरत सेठ व सुचरिता, दिल्ली परिषद के सचिव बिरजू नायक, मदनपुर खादर विस्तार से सुश्री फ़रजाना, अचीवर एम्बिशन अकादमी से राजीव, स्थानीय समिति से श्री ललित कुमार। सभी वक्ताओं ने अपने संबोधन में कहा कि अपने अधिकारों के लिए आगे आकर एकजुटता से लड़ने की ज़रूरत है। पीने का पानी, शौच के लिए सीवर व्यवस्था, आने-जाने के लिए सही रास्ते, स्कूल और अस्पताल जैसी बुनियादी सुविधायें लोगों का जन्मसिद्ध अधिकार हैं। इन सभी बुनियादी सुविधाओं को हासिल करने के लिये हमें एकजुट संघर्ष को तेज़ करना होगा।

इस कार्यक्रम को सफल करने में स्थानीय सदस्यों और कार्यकर्ताओं ने बहुत योगदान दिया। कार्यक्रम से प्रेरित होकर कई स्थानीय नौजवान लोक राज संगठन का सदस्य बनने के लिए आगे आए।

Tag:   

Share Everywhere

संगम विहार    सुख-सुरक्षा    रोज़गार    Mar 1-15 2018    Struggle for Rights    Privatisation    Rights     2018   

पार्टी के दस्तावेज

Click to Download PDFइस पुस्तिका के प्रथम भाग में नोटबंदी के असली इरादों को समझाने तथा उनका पर्दाफाश करने के लिये, तथ्यों और गतिविधियों का विश्लेषण किया गया है। दूसरे भाग में सरकार के दावों - कि नोटबंदी से अमीर-गरीब की असमानता, भ्रष्टाचार और आतंकवाद खत्म होगा - का आलोचनात्मक मूल्यांकन किया गया है। तीसरे भाग में यह बताया गया है कि कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी के अनुसार, इन समस्याओं का असली समाधान क्या है तथा उस समाधान को हासिल करने के लिये फौरी कार्यक्रम क्या होना चाहिये।

(Click thumbnail to download PDF)

यह चुनाव एक फरेब है!हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी के महासचिव, कामरेड लाल सिंह का

मजदूर एकता लहर के संपादक, कामरेड चन्द्रभान के साथ साक्षात्कार

(PDF दस्तावेज को डाउनलोड करने के लिए कवर चित्र पर क्लिक करें)

यह बयान, ”बड़े पूँजीपतियों के लिये अच्छे दिन का मतलब मजदूर-किसान के लिये दुख-दर्द के दिन“, हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी की केन्द्रीय समिति की 31 मई, 2014 को सम्पन्न हुई परिपूर्ण सभा में हुए विचार-विमर्श और मूल्यांकन पर आधारित है।

(PDF दस्तावेज को डाउनलोड करने के लिए कवर चित्र पर क्लिक करें)

हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी के महासचिव, कामरेड लाल सिंह का,

मजदूर एकता लहर के संपादक, कामरेड चन्द्रभान के साथ साक्षात्कार

(PDF दस्तावेज को डाउनलोड करने के लिए कवर चित्र पर क्लिक करें)

हिन्दोस्तानी गणराज्य का नवनिर्माण करने और अर्थव्यवस्था को नई दिशा दिलाने के कार्यक्रम के इर्द-गिर्द एकजुट हों ताकि सभी को सुख और सुरक्षा सुनिश्चित की जा सके!

(PDF दस्तावेज को डाउनलोड करने के लिए कवर चित्र पर क्लिक करें)

ग़दर जारी है... हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी की प्रस्तुति

सौ वर्ष पहले अमरिका में हिंदोस्तानियों ने हिन्दोस्तान की ग़दर पार्टी की स्थापना की थी. यह उपनिवेशवाद-विरोध संघर्ष में एक मिल-पत्थर था.

पार्टी का लक्ष था क्रांति के जरिये अपनी मातृभूमि को बर्तानवी गुलामी से करा कर, एक एइसे आजाद हिन्दोस्तान की स्थापना करना, जहां सबके लिए बराबरी के अधिकार सुनिश्चित हो.

(PDF दस्तावेज को डाउनलोड करने के लिए कवर चित्र पर क्लिक करें)