ट्रेनों के समय में बदलाव और छोटे स्टेशनों पर ठहराव की मांग : रामगढ़ में रेल रोको आंदोलन

जिला हनुमानगढ़ की उप-तहसील रामगढ़ के ग्रामीणों ने 26 मार्च, 2018 की दोपहर को सादुलपुर से श्रीगंगानगर जाने वाली रेलगाड़ी को रामगढ़ स्टेशन पर रोका। ग्रामीणों का गुस्सा इसलिये बढ़ गया क्योंकि रेल अधिकारियों ने अचानक हनुमानगढ़ सादुलपुर पैसेंजर तथा अन्य पैसेंजर गाड़ियों को रामगढ़ हाल्ट पर रोकना बंद कर दिया। इसके अलावा रेल अधिकारियों ने इस मार्ग पर चलने वाली पैसेंजर गाड़ियों की समय सारिणी को बदल दिया जिससे ये गाड़ियां ग्रामीणों के लिये उपयोगी नहीं थीं।

Rail Roko in RJयह आंदोलन लोक राज संगठन की अगुवाई में हुआ। आंदोलनरत ग्रामीणों को डराने धमकाने के लिये रेल प्रशासन ने भारी संख्या में पुलिस बल बुलाया, जिसने ग्रमीणों को बलपूर्वक हटाने की पूरी कोशिश की लेकिन वे इसमें विफल रहे। कई घंटों तक रेल अधिकारियों और आंदोलनकारी नेताओं के बीच विडियो कांफ्रेंसिंग के ज़रिये बहस और वार्ता हुई। अंत में रेल अधिकारियों को ग्रामीणों की जायज़ मांगों को मानना पड़ा, उन्होंने यह माना कि उस मार्ग पर चलने वाली पैसेंजर रेलगाड़ी न केवल रामगढ़ हाल्ट पर रुकेगी बल्कि दूसरे अन्य हाल्टों पर भी रुकेगी। यह पूरे जिले के ग्रामीण लोगों के लिये एक बड़ी जीत है।

इलाके के जन संगठन लोक राज संगठन की अगुवाई में इस मार्ग की रेलगाड़ियों की समय सारिणी को ठीक करवाने के लिये आंदोलन की तैयारी कर रहे हैं।

Tag:   

Share Everywhere

रेल रोको आंदोलन    रेल प्रशासन    Apr 1-15 2018    Voice of the Party    Privatisation    Rights     2018   

पार्टी के दस्तावेज

thumb

 

पूंजीपति वर्ग की राजनीतिक पार्टियां यह दावा करती हैं कि
उदारीकरण, निजीकरण और भूमंडलीकरण के कार्यक्रम का कोई
विकल्प नहीं है। परंतु सच तो यह है कि इसका विकल्प है।
इसका विकल्प है अर्थव्यवस्था को एक नयी दिशा दिलाना, ताकि
लोगों की जरूरतों को पूरा करने को प्राथमिकता दी जाए, न कि
पूंजीपतियों की लालच को पूरा करने को।
यह हिन्दोस्तान के नवनिर्माण का कार्यक्रम है।

पी.डी.एफ. डाउनलोड करनें के लिये चित्र पर क्लिक करें

 

thumbnail

इस दस्तावेज़ “किस प्रकार की पार्टी” को, कामरेड लाल सिंह
ने हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी की केन्द्रीय कमेटी की
ओर से 29-30 दिसम्बर, 1993 में हुई दूसरी राष्ट्रीय सलाहकार
गोष्ठी में पेश किया था।


पी.डी.एफ. डाउनलोड करनें के लिये चित्र पर क्लिक करें

Click to Download PDFइस पुस्तिका के प्रथम भाग में नोटबंदी के असली इरादों को समझाने तथा उनका पर्दाफाश करने के लिये, तथ्यों और गतिविधियों का विश्लेषण किया गया है। दूसरे भाग में सरकार के दावों - कि नोटबंदी से अमीर-गरीब की असमानता, भ्रष्टाचार और आतंकवाद खत्म होगा - का आलोचनात्मक मूल्यांकन किया गया है। तीसरे भाग में यह बताया गया है कि कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी के अनुसार, इन समस्याओं का असली समाधान क्या है तथा उस समाधान को हासिल करने के लिये फौरी कार्यक्रम क्या होना चाहिये।

(Click thumbnail to download PDF)

यह चुनाव एक फरेब है!हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी के महासचिव, कामरेड लाल सिंह का

मजदूर एकता लहर के संपादक, कामरेड चन्द्रभान के साथ साक्षात्कार

(PDF दस्तावेज को डाउनलोड करने के लिए कवर चित्र पर क्लिक करें)

यह बयान, ”बड़े पूँजीपतियों के लिये अच्छे दिन का मतलब मजदूर-किसान के लिये दुख-दर्द के दिन“, हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी की केन्द्रीय समिति की 31 मई, 2014 को सम्पन्न हुई परिपूर्ण सभा में हुए विचार-विमर्श और मूल्यांकन पर आधारित है।

(PDF दस्तावेज को डाउनलोड करने के लिए कवर चित्र पर क्लिक करें)

हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी के महासचिव, कामरेड लाल सिंह का,

मजदूर एकता लहर के संपादक, कामरेड चन्द्रभान के साथ साक्षात्कार

(PDF दस्तावेज को डाउनलोड करने के लिए कवर चित्र पर क्लिक करें)