भिवंडी में हजारों लोगों ने सड़कों पर उतर कर ऐलान किया : बलात्कार और हत्याओं के ख़िलाफ़ हिन्दोस्तानी लोग एकजुट हैं! सांप्रदायिक आधार पर राज्य हमें नहीं बांट सकता!

कठुआ में 8 वर्षीय आशिफा की बार-बार बलात्कार और क्रूरतापूर्ण हत्या, विधायक द्वारा उन्नाव में लड़की का बलात्कार और उस पर अत्याचार, सूरत में लड़की की हत्या से पहले बलात्कार और अकथनीय दुर्गति - इन सभी घटनाओं ने हमारे देश के लोगों को हिला कर रख दिया है। इन अपराधों में पुलिस और विधायक का शामिल होना, कठुआ के अपराधियों को जम्मू-कश्मीर सरकार के मंत्रियों द्वारा दिया गया शर्मनाक समर्थन, अपनी पार्टी के विधायक को बचाने की कोशिश में उत्तर प्रदेश सरकार की भूमिका और साथ ही प्रधानमंत्री की लम्बी चुप्पी, जो उन्होंने बहुत अनिच्छा से केवल कुछ ही वाक्य बोलकर तोड़ी - ये सब राज्य के लोक-विरोधी चरित्र को दर्शाते हैं। इसके विरोध में देशभर में लोग अपनी आवाज बुलंद कर रहे हैं। वे समझते हैं कि यदि वे एकजुट होकर नहीं लड़ेंगे तो ऐसे अपराधों पर पर्दा डाला जाता रहेगा और अपराधी बच कर निकलते रहेंगे।

Militant demonstration in Bhiwandi on women's safety issue
Militant demonstration in Bhiwandi on women's safety issue
Militant demonstration in Bhiwandi on women's safety issue
Militant demonstration in Bhiwandi on women's safety issue-2
Public meeting on Women's safety in Delhi
Public meeting on Women's safety in Delhi
Public meeting on Women's safety in Delhi

महाराष्ट्र के ठाणे जिले के भिवंडी शहर में, 20 अप्रैल, 2018 को दस हजार से अधिक लोगों ने जुझारू प्रदर्शन किया, जिसमें उन्होंने अपराधियों के लिए कठोर सजा की मांग के नारे लगाए। यह प्रदर्शन लोक राज संगठन, जमीयत-उलेमा (महाराष्ट्र) और जमात-ए-इस्लामी हिन्द, भिवंडी के नेतृत्व में किया गया और इसे मूवमेंट फॉर पीस एंड जस्टिस, भिवंडी, हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी तथा एस.यू.सी.आई. (कम्युनिस्ट) का समर्थन मिला। बड़े आकर्षक बैनरों और पोस्टरों में प्रदर्शनकारियों की भावनाएं व्यक्त थीं। “हिन्दोस्तानी लोग बलात्कार और हत्याओं के ख़िलाफ़ एकजुट है!”, “तुम हमें धर्म के आधार पर नहीं बांट सकते!” इन घटनाओं के आधार पर सांप्रदायिक बंटवारा करने वालों की कोशिशों का इस प्रदर्शन के ज़रिए लोगों ने करारा जवाब दिया। सत्ताधारियों द्वारा न्याय में रूकावट डालने के लिए लोगों ने चेतावनी दी “सरकार, बलात्कारियों और हत्यारों की रक्षा करना बंद करो!” “बलात्कारी विधायक नहीं चलेंगे” के नारे से लोगों ने अपने तथाकथित प्रतिनिधियों के ख़िलाफ़ गुस्से का इज़हार किया। “क्या 'बेटी बचाओ' एक नारा था या धमकी?” इस प्लेकार्ड से लोगों ने शासन सत्ता के दो-मुंहेपन और लोक-विरोधी चरित्र की निंदा की।

आयोजकों द्वारा लाए गए पर्चे की हजारों प्रतियां लोगों ने उत्सुकता से लीं। पर्चे में बताया गया कि महिलाओं की सुरक्षा के लिए हम सरकार और उसके “सुरक्षा बल” पर निर्भर नहीं रह सकते हैं। “आजादी के बाद हुए कितने ही सांप्रदायिक दंगों में महिलाओं का क्रूरता से बलात्कार किया गया था और पुरुषों को बेरहमी से मार डाला गया, वह भी “सुरक्षा बलों” की उपस्थिति में। कई बार “सुरक्षा बल” भी खुद ऐसा करते आए हैं।”

प्रदर्शन को संबोधित करते हुए लोक राज संगठन के प्रतिनिधि ने बताया कि आज हिन्दोस्तान में असली समस्या यह है कि लोकतंत्र के नाम पर सत्ता वास्तव में कुछ ही हाथों में संकेंद्रित है। इसलिए यह देश कुछ मुट्ठीभर लोगों के हित में और बहुसंख्यक मेहनतकश लोगों के ख़िलाफ़ चलता है। जिनके पास सत्ता है, चाहे वे किसी भी स्तर पर बैठे हों, उनको यह मालूम है कि वे लोगों के प्रति जवाबदेह नहीं हैं। गंभीर अपराध करने वाले जानते हैं कि उनके मालिकों ने और भी बदतर अपराध किए हैं और वे उन्हें सुरक्षित रखने में कामयाब हैं। हमें अपने सशक्तिकरण के लिए एकजुट होना होगा!

हिंन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी के वक्ता ने इस बात पर जोर दिया कि आशिफा का बलात्कार और हत्या किसी एक जाति या धर्म पर हमला नहीं है, यह हम सब पर हमला है। उन्होंने कहा कि आज कल अपराधी बेझिझक खुलेआम घूमते हैं, पीड़ितों को डराया-धमकाया जाता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि हमारे हुक्मारानों ने अंग्रेजों से लोक-विरोधी राज्य तंत्र हासिल किया है। हम इस स्थिति को और बर्दाश्त नहीं कर सकते! हमारा देश इंकलाब के लिए पुकार रहा है। हमें ऐसे समाज की स्थापना करनी होगी, जहां हम मज़दूर, किसान, औरत और नौजवान सच्चे मालिक होंगे और जहां लोगों के ख़िलाफ़ अपराध बर्दाश्त नहीं किए जाएंगे।

साथ मिलकर काम करने वाले इतने आयोजकों के महत्व को हर वक्ता ने सराहा और अपने सहयोग को जारी रखने और आगे ऐसे कई कार्यक्रमों को आयोजित करने का वचन लिया ।

प्रदर्शन शुरू होते ही ऐसे लगने लगा कि मानो मानवता की एक बहती नदी है, जो अपने मांगों के ज्ञापन को सौंपने के लिए प्रांत अधिकारी के कार्यालय पहुंची। बेरहम शासकों को बेदखल करने के लिए दृढ़ निश्चय से भरे लोग और गुस्से में युवा, नारे लगाते हुए आगे बढ़े। जिन्होंने विरोध प्रदर्शन में हिस्सा लिया और जिन्होंने इसे सिर्फ देखा, निश्चित रूप से इसे लंबे समय तक याद रखेंगे।

Tag:   

Share Everywhere

बलात्कार    हत्याओं    सांप्रदायिक    आवाज बुलंद    Hindi    May 1-15 2018    Voice of the Party    Popular Movements     Rights     2018   

पार्टी के दस्तावेज

thumbnail

इस दस्तावेज़ “किस प्रकार की पार्टी” को, कामरेड लाल सिंह
ने हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी की केन्द्रीय कमेटी की
ओर से 29-30 दिसम्बर, 1993 में हुई दूसरी राष्ट्रीय सलाहकार
गोष्ठी में पेश किया था।


पी.डी.एफ. डाउनलोड करनें के लिये चित्र पर क्लिक करें

Click to Download PDFइस पुस्तिका के प्रथम भाग में नोटबंदी के असली इरादों को समझाने तथा उनका पर्दाफाश करने के लिये, तथ्यों और गतिविधियों का विश्लेषण किया गया है। दूसरे भाग में सरकार के दावों - कि नोटबंदी से अमीर-गरीब की असमानता, भ्रष्टाचार और आतंकवाद खत्म होगा - का आलोचनात्मक मूल्यांकन किया गया है। तीसरे भाग में यह बताया गया है कि कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी के अनुसार, इन समस्याओं का असली समाधान क्या है तथा उस समाधान को हासिल करने के लिये फौरी कार्यक्रम क्या होना चाहिये।

(Click thumbnail to download PDF)

यह चुनाव एक फरेब है!हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी के महासचिव, कामरेड लाल सिंह का

मजदूर एकता लहर के संपादक, कामरेड चन्द्रभान के साथ साक्षात्कार

(PDF दस्तावेज को डाउनलोड करने के लिए कवर चित्र पर क्लिक करें)

यह बयान, ”बड़े पूँजीपतियों के लिये अच्छे दिन का मतलब मजदूर-किसान के लिये दुख-दर्द के दिन“, हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी की केन्द्रीय समिति की 31 मई, 2014 को सम्पन्न हुई परिपूर्ण सभा में हुए विचार-विमर्श और मूल्यांकन पर आधारित है।

(PDF दस्तावेज को डाउनलोड करने के लिए कवर चित्र पर क्लिक करें)

हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी के महासचिव, कामरेड लाल सिंह का,

मजदूर एकता लहर के संपादक, कामरेड चन्द्रभान के साथ साक्षात्कार

(PDF दस्तावेज को डाउनलोड करने के लिए कवर चित्र पर क्लिक करें)

हिन्दोस्तानी गणराज्य का नवनिर्माण करने और अर्थव्यवस्था को नई दिशा दिलाने के कार्यक्रम के इर्द-गिर्द एकजुट हों ताकि सभी को सुख और सुरक्षा सुनिश्चित की जा सके!

(PDF दस्तावेज को डाउनलोड करने के लिए कवर चित्र पर क्लिक करें)