नवीनतम - गतिविधियाँ, विश्लेषण, प्रसार, चर्चा ....

  • हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी की केन्द्रीय समिति का आह्वान, 26 मार्च, 2020

    कोरोना वायरस, जो बीते कुछ हफ्तों में पूरी दुनिया में फैलता जा रहा है, सभी लोगों की ज़िंदगियों के लिए बहुत बड़ा ख़तरा है। इस वायरस की वजह से, अब तक दुनिया में 21,000 से ज्यादा लोग मर चुके हैं। कई देशों में मृतकों की संख्या बढ़ती जा रही है। हिन्दोस्तान में अब तक सक्रमित व्यक्तियों की संख्या कम है परन्तु अगर वायरस फैल जाता है तो इस का अंजाम तबाहकारी होगा।
  • ‘न्याय दिलाने’ के नाम पर राजकीय आतंकवाद

    12 मार्च को, जब संसद में फरवरी 2020 के अंतिम हफ्ते में दिल्ली में हुई वहशी हिंसा पर चर्चा चल रही थी, तो केन्द्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने ऐलान किया कि दिल्ली में जो कुछ हुआ था, वह एक “सुनियोजित साज़िश” थी, जिसकी तहक़ीक़ात की जा रही है।

  • आधुनिक लोकतंत्र का एक असूल यह है कि राज्य किसी भी नागरिक को बिना कारण गिरफ़्तार नहीं कर सकता है। हिन्दोस्तानी राज्य इस असूल का सरासर हनन करता है। हिन्दोस्तानी संविधान विधायिकी को निवारक निरोध के कानून लागू करने की पूरी इज़ाज़त देता है। सशस्त्र बल विशेष अधिकार अधिनियम (ए.एफ.एस.पी.ए.), राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (रासुका) और अवैध गतिविधि निरोधक अधिनियम (यू.ए.पी.ए.) कुछ ऐसे केन्द्रीय कानूनों के उदाहरण हैं, जो सरकारी सुरक्षा बलों को मनमानी से लोगों को गिरफ़्तार करने और बंद करने की पूरी छूट देते हैं। राज्यों के स्तर पर भी तमाम ऐसे कानून हैं, जैसे कि जन सुरक्षा कानून और संगठित अपराधों को निशाना बनाने का दावा करने वाले कानून। इन सभी कानूनों को निवारक निरोध के लिए इस्तेमाल किया जाता है।
  • भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव की शहादत की वर्षगाँठ पर हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट गदर पार्टी की केन्द्रीय समिति का आह्वान, 23 मार्च, 2020

    23 मार्च, 2020 को भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव की शहादत के हुए, 90वां साल शुरू होगा। बरतानवी हुक्मरानों ने उन तीनों नौजवानों को इसलिए फांसी पर चढ़ाया था क्योंकि उन्होंने एक नए हिन्दोस्तान के लिए संघर्ष करने की जुर्रत की थी, जो उपनिवेशवादी गुलामी और हर प्रकार के शोषण और दमन से मुक्त होगा। उस समय जब पूरे उपमहाद्वीप में उपनिवेशवाद-विरोधी, आजादी का संघर्ष चल रहा था, तो वे हिन्दोस्तान के नौजवानों के सर्वोत्तम प्रतीक थे। 

  • इस हिंसा के लिए हुक्मरान ज़िम्मेदार

    उत्तर-पूर्व दिल्ली में सांप्रदायिक हिंसा के बाद से पिछले दो सप्ताह में हुक्मरानों ने इसकी हक़ीक़त को छुपाने की पूरी कोशिश की है। मीडिया और सोशल मीडिया के द्वारा तमाम तरह की कहानियां फैलाई जा रही हैं, जहां इस हिंसा के लिए एक या दूसरे समुदाय को या और लोगों को ज़िम्मेदार बताया जा रहा है।

  • International Women's Day 2020 Delhi

    8 मार्च, 2020 को करीब 20 संगठनों की महिला कार्यकर्ताओं के साथ अन्य कार्यकर्ताओं, स्कूलों और विश्वविद्यालयों के छात्रों, सांस्कृतिक कार्यकर्ताओं, वकीलों, नर्सों, शिक्षकों, गृहिणियों और विभिन्न व्यवसायों से महिलाओं ने अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस की एक जोशपूर्ण रैली में हिस्सा लिया।

  • कब्ज़ाकारी सेना के ख़िलाफ़ अफ़गानिस्तान के लोगों के बहादुर संघर्ष को सलाम

    29 फरवरी को, अमरीकी सरकार और तालिबान के प्रतिनिधियों ने क़तर के दोहा में एक समझौते पर हस्ताक्षर किए। तालिबान अफ़गानी लोगों के उन संगठनों में से एक है जो अपने देश पर अमरीकी साम्राज्यवादी कब्जे़ के ख़िलाफ़ लगभग दो दशकों से लड़ता आ रहा है।

  • विश्व और हिन्दोस्तान के स्तर पर पूंजीवाद गहरे संकट में है। इस कारण सभी मुख्य अंतर्विरोध और तीव्र हो रहे हैं। विभिन्न राजनीतिक नेताओं द्वारा बार-बार किये जा रहे दावों के बावजूद कि अर्थव्यवस्था का पुनरुत्थान नजदीक है, उत्पादक गतिविधियों ने अभी वह ज़ोर नहीं पकड़ा है जो 2008 के संकट से पूर्व था
  • धारा 144 - एक बस्तीवादी अवशेष जिसे तुरंत हटाया जाना चाहिए!

    केंद्र और राज्य सरकारें बिना किसी जांच पड़ताल के लोगों को शांतिपूर्वक सभा करने के बुनियादी अधिकार से वंचित करने के लिए लगातार भारतीय दंड संहिता (आई.पी.सी.) की धारा का इस्तेमाल करती आई हैं।

  • पाकिस्तान में हिंदू धर्म के लोगों ने होली का त्योहार नहीं मनाया

    8 मार्च, 2020 को पाकिस्तान में रहने वाले हिन्दू लोगों ने उत्तर पूर्व दिल्ली की हिंसा में पीड़ित मुसलमान लोगों से सहानुभूति में एक विरोध प्रदर्शन आयोजित किया। पिछले महीने राज्य द्वारा आयोजित साम्प्रदायिक हिंसा में दिल्ली के मुसलमान लोगों को निशाना बनाया गया था। उन्होंने घोषणा की कि मुसलमान भाइयों पर हिन्दोस्तान में हिंसा का विरोध करने के लिये वे इस साल 10 मार्च को होली का त्यौहार नहीं मनायेंगे।

  • औद्योगिक और कृषि मज़दूरों, किसानों, नौजवानों और छात्रों के कई संगठनों से जुड़े हजारों लोगों ने 10 मार्च को लुधियाना में जालंधर बाई-पास पर एक विरोध प्रदर्शन किया। उन्होंने सी.ए.ए., एन.आर.सी. और एन.पी.आर. तथा हाल में दिल्ली में मुसलमानों पर राज्य द्वारा आयोजित हिंसा का विरोध किया।

  • 2 मार्च, 2020 को दिल्ली की ट्रेड यूनियनों ने केन्द्र सरकार द्वारा पेश किए गए बजट के विरोध में कनाट प्लेस स्थित बैंक ऑफ़ बड़ौदा से लेकर जंतर-मंतर तक जुलूस निकाला। यह जुलूस लाल बैनरों और झंडों से सजा हुआ था।

  • हम नयी पीढ़ी को ढालते हैं पर हमारा खुद का भविष्य अंधकार में है

    राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली के सरकारी स्कूलों में काम करने वाले अतिथि शिक्षक पिछले कई वर्षों से नियमित नौकरी और बेहतर काम की शर्तों के लिये संघर्ष करते आये हैं। वर्तमान में 20,000 से भी अधिक अतिथि शिक्षक राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली के विभिन्न स्कूलों में काम करते हैं।

  • हरियाणा के कुरुक्षेत्र में अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर जन संघर्ष मंच हरियाणा ने जुलूस निकाला और जन सभा की। इस जुलूस में सैकड़ों महिलाओं ने भाग लिया। सभी लोग कुरुक्षेत्र के थानेसर रेलवे स्टेशन पर इकट्ठा हुये ...

  • 6 मार्च को सैकड़ों की तादाद में वकीलों ने सुप्रीम कोर्ट से चलते हुए जंतर-मंतर तक एक विरोध प्रदर्शन आयोजित किया। फरवरी के अंतिम सप्ताह में दिल्ली में राज्य द्वारा आयोजित हिंसा के खि़लाफ़ वकीलों ने यह प्रदर्शन किया। इस हिंसा में खास तौर से मुस्लिम समुदाय के लोगों को निशाना बनाया गया था ...

  • 12 फरवरी, 2020 को आल इंडिया गाड्र्स कौंसिल (ए.आई.जी.सी.) की ई.सी.आर. जोनल सभा धनबाद डिवीज़न की गोमोह लाबी में संपन्न हुई।

पार्टी के दस्तावेज

हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी के महासचिव, कामरेड लाल सिंह का,

मजदूर एकता लहर के संपादक, कामरेड चन्द्रभान के साथ साक्षात्कार

(PDF दस्तावेज को डाउनलोड करने के लिए कवर चित्र पर क्लिक करें)

हिन्दोस्तानी गणराज्य का नवनिर्माण करने और अर्थव्यवस्था को नई दिशा दिलाने के कार्यक्रम के इर्द-गिर्द एकजुट हों ताकि सभी को सुख और सुरक्षा सुनिश्चित की जा सके!

(PDF दस्तावेज को डाउनलोड करने के लिए कवर चित्र पर क्लिक करें)

ग़दर जारी है... हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी की प्रस्तुति

सौ वर्ष पहले अमरिका में हिंदोस्तानियों ने हिन्दोस्तान की ग़दर पार्टी की स्थापना की थी. यह उपनिवेशवाद-विरोध संघर्ष में एक मिल-पत्थर था.

पार्टी का लक्ष था क्रांति के जरिये अपनी मातृभूमि को बर्तानवी गुलामी से करा कर, एक एइसे आजाद हिन्दोस्तान की स्थापना करना, जहां सबके लिए बराबरी के अधिकार सुनिश्चित हो.

(PDF दस्तावेज को डाउनलोड करने के लिए कवर चित्र पर क्लिक करें)

सिर्फ मज़दूर वर्ग ही हिन्दोस्तान को बचा सकता है! हिन्दोस्तान की ग़दर पार्टी की केंद्रीय समिति का बयान, ३० अगस्त २०१२

(PDF दस्तावेज को डाउनलोड करने के लिए कवर चित्र पर क्लिक करें)

निजीकरण और उदारीकरण के कार्यक्रम की हरायें!

मजदूरों और किसानों की सत्ता स्थापित करने के उद्देश्य से संघर्ष करें!

हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी की केंद्रीय समिति का आवाहन, २३ फरवरी २०१२

अर्थव्यवस्था के मुख्य क्षेत्रों - बैंकिंग और बीमा, मशीनरी और यंत्रों का विनिर्माण, रेलवे, बंदरगाह, सड़क परिवहन, स्वास्थ्य, शिक्षा, आदि - के मजदूर यूनियनों के बहुत से संघों ने 28 फरवरी २०१२ को सर्व हिंद आम हड़ताल आयोजित करने का फैसला घोषित किया है। यह हड़ताल मजदूर वर्ग की सांझी तत्कालीन मांगों को आगे रखने के लिये की जा रही है।

(PDF दस्तावेज को डाउनलोड करने के लिए कवर चित्र पर क्लिक करें)

मजदूर वर्ग के लिये राज्य सत्ता को अपने हाथ में लेने की जरूरत23-24 दिसम्बर, 2011 को मजदूर वर्ग गोष्ठी में प्रारंभिक दस्तावेज कामरेड लाल सिंह ने हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी की केन्द्रीय समिति की ओर से पेश किया। मजदूर वर्ग के लिये राज्य सत्ता को अपने हाथ में लेने की जरूरत शीर्षक के इस दस्तावेज को, गोष्ठी में हुई चर्चा के आधार पर, संपादित किया गया है और केन्द्रीय समिति के फैसले के अनुसार प्रकाशित किया जा रहा है।

(PDF दस्तावेज को डाउनलोड करने के लिए कवर चित्र पर क्लिक करें)