Crisis of Capitalism and the dangerous course of the Indian State...

PublicationDetailsNotes
  • Year: Dec 2002
  • Author: CGPI
  • Languages: English
  • Mediums: Print & PDF
  • Price: rs50 / USD $4
  • PDF in Hindi.
This keynote speech, entitled "Crisis of Capitalism and the dangerous course of the Indian State points to the urgency for communists to prepare for the proletarian revolution!", was delivered by Comrade Lal Singh, General Secretary of CGPI, on behalf of it's Central Committee  at a conference of Indian communists in Nov 2002. The conference, convened to discuss issues concerning the Indian State and Revolution where it's principal aim was to theoretically and ideologically arm the writers, readers and distributors of Mazdoor Ekta Lehar and People’s Voice.

Description:

Crisis of Capitalism and the dangerous course of the Indian State points to the urgency for communists to prepare for the proletarian revolution!

This keynote speech, entitled "Crisis of Capitalism and the dangerous course of the Indian State points to the urgency for communists to prepare for the proletarian revolution!", was delivered by Comrade Lal Singh, General Secretary of CGPI, on behalf of it's Central Committee  at a conference of Indian communists in Nov 2002. The conference, convened to discuss issues concerning the Indian State and Revolution where it's principal aim was to theoretically and ideologically arm the writers, readers and distributors of Mazdoor Ekta Lehar and People’s Voice.

…the participants resolved to continue and deepen the discussion of theoretical and ideological questions within the communist movement, while uniting firmly to deal with the immediate problem of the political unity of the working class. They resolved to step up the struggle against the harmful trend within the communist movement, of lining up the workers and peasants behind the “lesser evil” within the bourgeoisie and in defence of the “secular foundations” of the Indian State.

 


 

Cover photograph: Red lightning storm over the Indian sub-continent.

 

 PDF version

- Hindi

Tag:   

Share Everywhere

Publications   

पार्टी के दस्तावेज

8 जनवरी, 2020 की सर्व हिन्द आम हड़ताल को सफल करें!

मज़दूर एकता कमेटी का आह्वान

देश की दिशा पूंजीपतियों की अमीरी को बढ़ा रही है और मज़दूर, किसान व सभी मेहनतकशों को ग़रीबी में धकेल रही है। इस रास्ते का विरोध करने के लिए और देश की दौलत पर अपने अधिकार का दावा करने के लिए यह हड़ताल आयोजित की जा रही है।

मेहनतकशों का है यह नारा, हम हैं इसके मालिक! हिन्दोस्तान हमारा!

thumbपूंजीपति वर्ग की राजनीतिक पार्टियां यह दावा करती हैं कि उदारीकरण, निजीकरण और भूमंडलीकरण के कार्यक्रम का कोई विकल्प नहीं है। परंतु सच तो यह है कि इसका विकल्प है। इसका विकल्प है अर्थव्यवस्था को एक नयी दिशा दिलाना, ताकि लोगों की जरूरतों को पूरा करने को प्राथमिकता दी जाए, न कि पूंजीपतियों की लालच को पूरा करने को। यह हिन्दोस्तान के नवनिर्माण का कार्यक्रम है।

(Click thumbnail to download PDF)

5th Congress Documentहिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी के महासचिव कामरेड लाल सिंह द्वारा, पार्टी की केन्द्रीय समिति की ओर से, हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी के पांचवें महाअधिवेशन को यह रिपोर्ट पेश की गई। महाअधिवेशन में इस पर चर्चा की गयी और इसे अपनाया गया। पांचवें महाअधिवेशन के फैसले के अनुसार, इस रिपोर्ट को सम्पादकीय शोधन के साथ, प्रकाशित किया जा रहा है।

(Click thumbnail to download PDF)

Click to Download PDFइस पुस्तिका के प्रथम भाग में नोटबंदी के असली इरादों को समझाने तथा उनका पर्दाफाश करने के लिये, तथ्यों और गतिविधियों का विश्लेषण किया गया है। दूसरे भाग में सरकार के दावों - कि नोटबंदी से अमीर-गरीब की असमानता, भ्रष्टाचार और आतंकवाद खत्म होगा - का आलोचनात्मक मूल्यांकन किया गया है। तीसरे भाग में यह बताया गया है कि कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी के अनुसार, इन समस्याओं का असली समाधान क्या है तथा उस समाधान को हासिल करने के लिये फौरी कार्यक्रम क्या होना चाहिये।

(Click thumbnail to download PDF)

यह चुनाव एक फरेब है!हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी के महासचिव, कामरेड लाल सिंह का

मजदूर एकता लहर के संपादक, कामरेड चन्द्रभान के साथ साक्षात्कार

(PDF दस्तावेज को डाउनलोड करने के लिए कवर चित्र पर क्लिक करें)

यह बयान, ”बड़े पूँजीपतियों के लिये अच्छे दिन का मतलब, मजदूर-किसान के लिये दुख-दर्द के दिन“, हिन्दोस्तान की कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी की केन्द्रीय समिति की 31 मई, 2014 को सम्पन्न हुई परिपूर्ण सभा में हुए विचार-विमर्श और मूल्यांकन पर आधारित है।

(PDF दस्तावेज को डाउनलोड करने के लिए कवर चित्र पर क्लिक करें)